Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

शाहीन बाग़ की सर्द रातो में ठिठुरती भारत माता का लोकतंत्र का चुनावी मन्त्र

0 50

उनको नया भारत बनाने की जिद हैं ,लोकतंत्र में सियासत का तमाशा लोकतंत्र में मिली जनता की ताकत से नशा सत्ताधीश के सर पर शनि बन कर नाच रहा हैं | इतना भी भान नहीं रहा की कही आज की उनकी उपलब्धि कही गोडसे कैसा काला कलंक न बन जाए उनकी प्रतिष्ठा पर ,जिस प्रतिष्ठा को बहुत जतन के बाद बड़े खर्चे के बाद ले पाए हैं |

https://www.azadmanoj.com/wp-admin/post.php?post=9025&action=edit

नागरिकता पर सरकार अगर सवाल उठाती हैं तब वो सरकार भी गैरकानूनी हैं जिसके लिए नागरिक का मतदाता पत्र ,और आधार कार्ड से ले कर राशन कार्ड तक अवैध हैं | अवैध नागरिको के द्वारा चुनी गयी सरकार वैध कैसे हो जाती हैं ? वो प्रधानमंत्री कैसे वैध हैं ?वो ग्रहमंत्री और जनता के चुने प्रतिनिधि कैसे वैध कहे जा सकते हैं

चलिए यहाँ से अब सफ़र शुरू करते हैं उन सर्द रातो का जिन सर्द रातो में लोकतंत्र को बचाने के लिए बहुत सी भारत माता और उनकी बेटियां रातो को जगराता कर रही हैं . चंद कानखजूरे सड़क छाप उनको पैसे पर लायी गयी बता रहे हैं . नैतिकता की सारी सीमाओं को अनैतिकता के नये मापदंडो से तार तार कर दिया हैं . एक शाहीन बाग़ से शुरू हुई लड़ाई पता नहीं देश में कितने शाहीन बागो को जन्म दे चुके हैं . हुक्मरान हैं की जिद पर अडा हैं उसे नहीं पता की जिस डाली पर बैठे हैं उसी डाली को काटने में वो व्यस्त हैं . https://www.azadmanoj.com/2018/12/sharad-pawar-took-the-gandhi-family-and-said-a-big-attack-on-modi/

उनको समझ नहीं आता लेकिन हिन्द को समझ आने लगा हैं ,उनको दलितों का आक्रोश नज़र नहीं आता . उनके खिलाफ सवाल करने वाले गद्दार नज़र आते हैं देश में अचानक इतने गद्दार अगर हैं तब सरकार चूडिया पहन कर क्यों बैठी हैं क्या ५६ इंची साहेब के बस की कोई बात नहीं रही .भीड़ तन्त्र को लोकतंत्र की हत्या की साज़िश में जैसे शामिल कर लिया हो ……….

किसानो की आत्महत्या पर सरकार का मौन ,बेरोज़गारी पर साहेब का मौन ,मंहगाई पर सरकारी शांति.

सरकार के साथ लोकतंत्र के खम्बो पर भी सोने की ज़ंजीरो से जकड दिया गया ,कमजोर ढहते स्तंभों को झूठ का मुलम्मा चढ़ा कर चमकदार बना दिया ,और नारा ये की बनायेंगे नया भारत

शाहीन बाग़ को ४७ दिन से ज्यादा हो गये कुछ बिकाऊ दंगाई पत्रकार भी उनके बीच पहुचे बदनाम करने की लाख साज़िस्शे हुई ,लेकिन तिरंगे की आन और शान ने ,बेटियों और माताओं का सर हमेशा ऊंचा रखा ,सरकार को भी दिल्ली चुनाव में एक नारा मिल गया दिल्ली में चुनाव लड़ने का ,मुद्दा जो पैदा किया था इतने जतन से ,की शाहीन बाग़ में केवल मुसलमान ही बैठे हैं ,एक धारणा बिकाऊ मीडिया के जरिये फैला दि गयी पूरे मुल्क में ,उसके ऊपर भाजपा के नेताओं के भड़काऊ भाषण ,क्युकी जुमलो के राशन वाले थैले में कोई नया जुमला बचा नहीं चलो शाहीन बाग़ के नाम पर चलो हो जाये हिन्दू मुस्लिम वोट बेंक तमाशा जनता हैं ही मूर्ख वो ३०० रूपये वाला गेस का सिलेंडर ७०० रूपये में ले लेगी ,वो फोन का बिल दुगना हो जाए सह लेगी पर सवाल नहीं करेगी अगर सवाल किया तब गद्दार का ठप्पा लगा कर सीधे जेल के अन्दर रख देगी ………

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.