Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

“किस्सा कुर्सी का “कहानी एक रंगरेज़ चोकीदार की सत्ता के अभिमान की

प्रियंका गांधी के राजनीती में कदम

India's Prime Minister Narendra Modi is seen at the G20 summit in Hamburg, Germany July 7, 2017. REUTERS/Wolfgang Rattay
0 2,623

२०१४ का लोकसभा चुनाव ,जिसमे चमक दमक और मोदी के विकास के वायदों की खनक में पी एम् मनमोहन सिंह का मौन विकास कही छुप कर रहा गया . सब एक ही धुन पर आत्म मुघ्ध ,भूतकाल को विस्मृत कर गुजरात मोडल की खनक और रंगीले लबादे में अपने आप को रंग देने के लिए लालायित थे .एक शोर उठा था एक विकास पुरुष की सफ़ेद वेशभूषा धारण कर एक नेता भविष्य के भारत की तस्वीर जनता के सामने खींच रहा था . अपने वायदों की कूंची से उस तस्वीर के हिस्सों को रंग रहा था . इस रंगरेज़ ने जो भारत की तस्वीर खींची जनता ने उस देश के निर्माण का ठेका पांच साल के लिए इस रंगरेज़ को दे दिया . बना दिया उसको देश का रखवाला बना दिया; उसे देश का चोकीदार ……….. बना दिया .

जी न्यूज़ चेनल बिकाऊ हैं कोई खरीदेगा क्या ,सुभाष चंद्रा अब मांग रहे हैं माफ़ी

इस चोकीदार ने देश के सारे चोरो के साथ सांठ गाँठ कर ली ,चोर देश का धन लूट कर विदेश की धरती पर अपना जीवन यापन कर रहे हैं . सवाल पूछने पर अब सजा दे दी जाती हैं . इस रंगरेज़ ने अपना सफ़ेद चोला उतार फेंका पोशाक के नीचे उसके  भगवा रंग के अंतवस्त्र देश की जनता को नज़र आये तब लगा देश की जनता को विकास का तमाशा दिखा कर ,देश की जनता के साथ वो छल कर गया .

इस रंगरेज़ ने देश को कई जादू के खेल दिखाए नोट बंदी से ले कर एकीक्रत टेक्स के नाम पर देश को इतनी पटखनी खिलाई देश त्राहि माम कर गया . देश के पी एम् मोदी जी ने राजनीति के वो वो करतब दिखाए जिनकी कल्पना शायद चाणक्य ने भी नहीं की होगी . काश्मीर समस्या पर जिस महबूबा को चुनाव प्रचार के दौरान राष्ट्रद्रोही कहते रहे . चुनाव के बाद उस महबूबा को महबूब बना सरकार बना देश में एक शुद्ध अवसरवादिता का श्रेष्ठ उदहारण प्रस्तुत किया .

राहुल गाँधी का मिशन यू पी इस बार ख़ास हैं होंगे कई कद्दावर नेता शामिल

समाचार माध्यमो को अपने आँगन की नर्तकी बना उससे मनभावन नाच और गीत गवाए गए . विरोधियो को ध्वस्त करने के लिए सारी सरकारी संस्थाओं को लगा दिया . देश की सेना का इस्तेमाल अपने राजनैतिक स्वार्थ के लिए किया गया . सेना पहली बार इस्तेमाल हुई उसके सैनिको की तस्वीरों पर अब वोट की अपील की जाने लगी . सच में देश कितना बदल गया . ऐसी परिकल्पना तो देश को आज़ादी दिलाने वाले शहीदों ने भी नहीं की होगी .

वर्तमान के चुनावों में उस रंगरेज़ ने अब राष्ट्रवाद की कूंची उठा ली हैं अब वो देश के सामने फिर से एक नयी तस्वीर बना रहा हैं . जिसमे नर्तकिया राष्ट्रवाद के घूंघरू बाँध कर रंगरेज़ की धुन पर नाच रहे हैं .वो धुन जिसकी रचना उसने और उसके सहायक ने की हैं . उसके पास अपनी बनाई गयी पिछली तस्वीर जिसको वो पूरा नहीं कर सका जनता को दिखाने के लिए नहीं हैं वो उन नर्तकियो के आँगन में लटका दी  गयी हैं प्रिंट करा कर , जो किसी और देश की और बनाबटी झूठी तस्वीर हैं .

रंगरेज़ अब भी मस्त हैं उसे भरोसा हैं की इस बार भी उसने जो राष्ट्रवाद का ब्रश उठाया हैं जनता को एक बार फिर बरगला लेगा ये रंगरेज़ ,जो रंग भी भरता हैं और रंग भी बदलता हैं .

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.