Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

चौकीदार देखता रहा चोर भागते रहे भक्त मोदी गान गाते रहे

साहेब के मेहुल भाई चले गए और देश देखता रहा एक कमजोर 56 इंच की छाती का विकसित प्रदर्शन जिसने देश का सत्ता का मुंह काला कर दिया

0 23,803

दिल्ली दरबार : किस्सा कुर्सी  की ताकत और देश का धन लूट कर भागने बालो के गठबंधन से शुरू होता हैं . जिसकी पट कथा भगोड़े और देश में अपने आपको देश प्रेमी बता कर प्रचार करने वाले भाजपा नेताओं की मिलीभगत की कलम से लिखी गयी . जिसकी स्याही हीरो जैसे चमक पूरे देश में बिखेर रही थी

मोदी सरकार खुद को पाक साफ़ बताने का चरित्र प्रमाण पत्र खुद जारी करवाने में माहिर हैं , ऐसी सत्ता की धनक जो झूठ को सही और सही को गलत साबित कर दे . यही तो साहेब का गुजरात मोडल था . जिसकी विकसित सडको पर देश की जनता को पैदल ही भटकने को छोड़ दिया .

देश को धोखा दे कर भागने वाले भागते रहे मोदी जी और मीडिया खुद पर ही आसक्त हो एक ऐसे शासक के प्रशस्ति गान में मुग्ध हो गये जिसे केवल अपने को ले कर चिंता थी …….

साहेब के मेहुल भाई चले गए और देश देखता रहा एक कमजोर 56 इंच की छाती का विकसित प्रदर्शन

इस साल जनवरी के पहले सप्ताह में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने चोकसी की कंपनी गीतांजलि समूह की थाईलैंड में स्थित 13 करोड़ रुपए कीमत की एक फैक्टरी को नीलाम  कर लिया था. यह नीलामी  दो अरब डॉलर के कथित पीएनबी धोखाधड़ी मामले में की गई थी. एजेंसी ने कहा था कि उसने धन शोधन रोकथाम कानून (PMLA) के तहत एब्बेक्रेस्ट (थाईलैंड) लिमिटेड के स्वामित्व वाली फैक्टरी की नीलामी  के लिए एक अस्थायी आदेश जारी किया था. यह कंपनी गीताजंलि समूह की एक कंपनी है.

ABP न्यूज़ चेनल के स्टिंग ओपरेशन से खुली योगी सरकार की पोल भाजपा की किरकिरी

पिछले साल के अंत में मेहुल चोकसी ने  भारत की मुंबई की एक कोर्ट से कहा था कि वह 41 घंटे की यात्रा कर भारत नहीं आ सकता. लोन धोखाखड़ी मामले वांछित चोकसी ने बताया कि उसकी खराब सेहत की वजह से वह एंटीगुआ से भारत नहीं आ सकता. कोर्ट में लिखित में दिए गए जवाब में मेहुल चोकसी ने प्रवर्तन निदेशालय पर आरोप लगाया था कि उसकी स्वास्थ्य की जानकारी न देकर कोर्ट को गुमराह किया गया है.

इसके साथ ही उसने कहा था कि वह अपना बकाया चुकाने के लिए बैंकों के संपर्क में है. साथ ही कहा था कि वह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जांच के साथ जुड़ने के लिए तैयार है. वहीं प्रवर्तन निदेशालय ने कोर्ट से कहा था कि मेहुल चोकसी को भगोड़ आर्थिक अपरोधी घोषित किया जाए और उसकी संपत्ति जब्त करने के आदेश दिए जाएं.

क्या कभी खुल पायेंगे धनुष टेंक को चीन की बेरल देने वालो के नाम

पीएनबी घोटाला (PNB Scam) के आरोपी भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी (Mehul Choksi) ने प्रत्यर्पण से बचने की कोशिश की है. मेहुल चौकसी ने अपनी भारतीय नागरिकता छोड़ दी है. इसके साथ ही उसने भारतीय पासपोर्ट भी सरेंडर कर दिया. चौकसी के इस कदम को प्रत्यर्पण से बचने की एक कोशिश के रूप में देखा जा रहा है.

इसके बाद केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कुछ समय  लग सकता है लेकिन हम ऐसे भगोड़ों को वापस लाएंगे. राजनाथ सिंह ने कहा, “हमारी सरकार ने भगोड़ा आर्थिक अपराधी पारित किया है… जो देश छोड़कर भाग गए हैं, उन्हें वापस लाया जाएगा… इसमें कुछ वक्त लग सकता है, लेकिन उन सभी को वापस लाया जाएगा…”

शरद पवार ने गांधी परिवार को ले कर बोला मोदी पर बड़ा हमला

चौकसी पीएनबी घोटाले में वांछित है. चौकसी ने एंटीगुआ (Antigua) में भारतीय उच्चायोग को अपने पासपोर्ट के साथ ही 177 डॉलर का ड्राफ्ट भी सौंपा है. अधिकारियों के मुताबिक उसने अपना नया पता ‘जॉली हार्बर मार्क्स एंटीगुआ’ बताया है.

ये जिक्र भी करना बहुत ज़रूरी हैं की भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि मेहुल चौकसी दो देशों की नागरिकता नहीं रख सकता. मेहुल चौकसी को साल 2018 में एंटीगुआ और बारबूडा की नागरिकता दी गई थी .

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.