Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

सर्वशक्तिमान छप्पन अब झुंझलाया कमजोर और हँसी का पात्र हैं !

सर्वशक्तिमान मोदी अब एक कमजोर बौखलाए झुंझलाए नेता की तरह व्यवहार कर रहे हैं तब दूसरी तरफ राहुल गाँधी ने अपनी एक अलग विश्वसनीयता बना ली हैं

0 911

कांग्रेस की तीन राज्यों में जीत के साथ ही मीडिया के द्वारा बनाई गयी एक धुंधली शीशे की दीवार “तडाक” से टूट गयी और उस दीवार के दुसरे छोर पर नज़र आया एक सफ़ेद कपडे खादी  के पहने  हुए मासूमियत और देश के किसानो की नयी उम्मीद बन कर नायक की तरह उभरे राहुल गांधी ,जिनके सामने एक ऐसा नेता था जो कभी अपने आपको सर्वशक्तिमान बता कर बाकि दलों को समाप्त करने का नारा लगाता और लगवाता था .

मध्य प्रदेश चुनावों में हो जाएगा बड़ा हेर फेर ,देश में मोदी विरोधी लहर

सोशल मीडिया पर अब पी एम् मोदी का मजाक उड़ाया जाने लगा हैं . अपने ही सहयोगी साथ छोड़ किनारा करने लगे हैं .अपने ही नेता उनको कटघरे में खड़ा करने लगे हैं . मीडिया ने उनकी छवि को बनाने के जितने जी तोड़ प्रयास किये शायद बीते 70 सालो में किसी एक प्रधानमंत्री के बारे में याद  नहीं आता किसी मीडिया हाउस ने किया होगा . रोजाना के मुद्दे सूचना प्रसारण मंत्रालय में तय होते और उन्ही विषयों पर सारे मीडिया चेनलो पर वाही बहस दिखाई और सुनाई जाती .

अलवर में राहुल गांधी का ऐतहासिक भाषण राजस्थान में कांग्रेस की वापसी के संकेत

इतना समर्थन शायद ही किसी मीडिया ने पूर्व में किसी नेता का किया हो याद नहीं आता ,यहाँ तक की चुनावों से पहले मीडिया जन मानस को अपनी राय बता कर मोदी जी के पक्ष में माहौल बनाता ,सर्वे  दिखाता पर झूठ के पाँव होते ही कितने हैं . मोदी समर्थक मीडिया ने और भाजपा की आई टी सेल ने जितनी मेहनत मोदी जी को महान बनाने में की उतनी ही राहुल गाँधी की एक ऐसी छवि बनाने में की जिसमे उनको नाकाबिल बताया गया .

पर भाजपा की  पिछले नौ साल से किये जा रहे प्रयास को बस एक नारे ने धो दिया और वो नारा सबसे पहले निकला राजस्थान से जहाँ राहुल गाँधी ने बोला चौकीदार …….

जनसमूह गगनभेदी आवाज़ में कह बैठा …………चोर हैं .

ये शुरुआत हैं सर्दी में उस गर्म हवा के अहसास की जो कांग्रेस को हार की ठिठुरती रात में  अपनी तपिश से उसके तन्तिका तंत्र को क्रियाशील कर गयी हैं . दूसरी तरफ मोदी जी एक झूठ और जुमलो का पुलिंदा साबित हुए तब दूसरी तरफ तीनो राज्यों की कांग्रेस सरकारों ने तय समय सीमा से पहले ही किसानो के क़र्ज़ माफ़ी की घोषणा कर ,मोदी जी की बनायी गयी छवि के मुंह पर अपना बाउंसर दे मारा हैं .

मूड ऑफ़ नेशन के सर्वे में राहुल गांधी की लोकप्रियता का ग्राफ दोगुना

अपने ही एक कार्यक्रम में पी एम् मोदी पंदुचेरी में अपने बूथ के कार्यकर्त्ता के सवाल का ज़बाब नहीं दे पाए और वन्नकम कर के निकल लिए सोशल मीडिया की तीसरी नज़र ने उन्हें उपहास का पात्र बना दिया हैं .राहुल गाँधी के आत्मविश्वास और लोकप्रियता में आश्चर्य जनक बढ़ोत्तरी हुई हैं .

पार्ट -1

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.