Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

अरुण यादव होंगे एम्.पी दौरे में राहुल गाँधी के सारथी ,कांग्रेस में कद हुआ बड़ा

0 616

मध्यप्रदेश कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव को अचानक पद से हटा दिया गया था.आला कमान ने उनकी जगह कमलनाथ को प्रदेश अध्यक्ष के रूप में लाया गया था . इसके बाद अरुण यादव की नाराजगी के किस्से सियासी गलियारों में सुनाई दे रहे थे . हालांकि दिग्विजय सिंह ने उन्हे मना लिया था परंतु फिर भी वो पूरी तरह से सक्रिय नहीं हुए थे परंतु अब उन्हे राहुल गांधी की यात्राओं के समन्वय का काम सौंपा गया है.

कुछ सूत्रों का कहना है कि यह जिम्मेदारी उन्हे सपा चीफ अखिलेश यादव के कहने पर सौंपी गई है. बता दें कि पिछले दिनों सपा चीफ अखिलेश यादव भोपाल आए थे, यहां वो अरुण यादव से विशेष रूप से मिले. सूत्रों का दावा है कि अखिलेश यादव मध्यप्रदेश में कांग्रेस के लिए ओबीसी वोटों को जुटाने का काम कर रहे हैं. कमलनाथ अरुण यादव का उपयोग करना चाहते थे, राहुल गांधी ने नई जिम्मेवारी दे कर उनका कद बड़ा दिया हैं .

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सितंबर में ओंकारेश्वर मंदिर से अपना चुनाव अभियान शुरू करेंगे. गुजरात, कर्नाटक के बाद मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में सॉफ्ट हिंदुत्व का फॉर्मुला ज़मीन पर उतारा जाएगा. इसकी तैयारी ज़ोंरो पर है . ओंकारेश्वर नर्मदा का किनारा है और यह साधु- संतों महंतों का गढ़ है.कांग्रेस अध्यक्ष राहुल के साथ इस अभियान में कई महंत–साधु हिस्सेदारी करें इसकी तैयारी चल रही है. कर्नाटक में जिस रथ पर राहुल ने केंपेन किया था उसे भी मध्यप्रदेश में लाया जा रहा है.

खरगोन निमाड़ की 22 विधानसभा सीटों पर अरुण यादव का प्रभाव माना जाता है. कमलनाथ चाहते थे कि इन सीटों पर अरुण यादव का उपयोग करके ओबीसी वोट अपने पक्ष में कर लिए जाएं। कमल नाथ की एक चिट्ठी भी वायरल हो गई थी परंतु राहुल गांधी ने अब अरुण यादव का कद बढ़ा दिया है। राहुल गांधी की यात्राओं का समन्वय मिलने के बाद अरुण यादव एक बार फिर मध्यप्रदेश में कांग्रेस के दिग्गज नेता बन गए हैं.

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.