Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

ये बदले तेवर और कलेवर राहुल गाँधी के कांग्रेस सेवादल का बदला रूप

सत्तर साल पुरानी कांग्रेस जिसने अभी तक के सफ़र में बहुत कुछ पाया और देश की प्रगति ,एकता और अखंडता बनाए रखने में अपना महत्व पूर्ण योगदान भी दिया हैं

0 529

सत्तर साल पुरानी कांग्रेस जिसने अभी तक के सफ़र में बहुत कुछ पाया और देश की प्रगति ,एकता और अखंडता बनाए रखने में अपना महत्व पूर्ण योगदान भी दिया हैं . साथ ही दो शहादत आज़ादी के बाद के हिन्दुस्तान में ,वो भी अपने ही देश में रहने वाली और पलने वाली विचारधाराओ से सघर्ष में , निर्भीकता और साहस से डट का मुकाबला किया . आज़ादी के बाद तीन गाँधी हमने खो दिए .

श्री राम मंदिर के नाम पर भाजपा ने राजनीति की ,कांग्रेस बनायेगी राम मंदिर

वर्तमान में संघ की विचार धारा से प्रभावित कई संगठन देश में चरम पंथ को पैदा कर रहे हैं . इस विचारधारा के मुकाबले के लिए कांग्रेस ने भी कांग्रेस सेवा दल का गठन किया था . आज ध्यान न दिए जाने की वज़ह से कांग्रेस सेवादल जीर्ण शीर्ण हो गया था . उसका सबसे बड़ा कारण उससे बड़े नेताओं का और संगठन के लोगो का उदासीन रवैया .

बात 1959 की है. कांग्रेस के नासिक अघिवेशन में शामिल होने जा रहे प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को गेट पर रोक दिया जाता है. गेट पर सुरक्षा की ज़िम्मेदारी संभाल रहे कमलाकर शर्मा से नेहरू पूछते हैं क्या तुम मुझे नहीं जानते?

शर्मा विनम्रता से कहते हैं- मैं आपको जानता हूं. आप देश के प्रधानमंत्री हैं. लेकिन, आपने उचित बैज नहीं लगाया है. ऐसे आप अंदर नहीं जा सकते. नेहरू जी मुस्कुराते हैं और अपनी जेब से बैज निकालकर दिखाते हैं. उसके बाद उन्हें अंदर जाने दिया जाता है. सेवादल की पत्रिका ‘दल समाचार’ में इस घटना का ज़िक्र है.

अधिवेशन स्थल पर तैनात शर्मा तब कांग्रेस सेवादल के नायक थे. उनकी इस हिमाक़त से समारोह स्थल पर हड़कंप मच गया था. पर नेहरू तो उनकी परीक्षा ले रहे थे, जिसमें वे पास हो गए थे. बाद में उन्हें मुंबई का चीफ़ ऑर्गेनाइजर बना दिया गया.

इसका संगठनात्मक ढांचा और संचालन का तरीक़ा सैन्य रहा है. कभी कांग्रेस में शामिल होने से पहले सेवादल की ट्रेनिंग ज़रूरी होती थी. इंदिरा गांधी ने राजीव गांधी की कांग्रेस में एंट्री सेवादल के माध्यम से ही कराई थी. नेहरू से लेकर राहुल गांधी तक सब सेवादल को ‘कांग्रेस का सच्चा सिपाही’ कहते रहे हैं.

राहुल गाँधी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बन जाने पर राहुल गांधी का ध्यान सबसे पहले कांग्रेस सेवादल की तरफ गया . और उसमे आमूल चूल परिवर्तन का मन राहुल गाँधी बना चुके थे . कार्य शुरू हुआ और अब कांग्रेस सेवादल फिर से खड़ा होने लगा हैं . कुछ नए नियम ,और नये क़ानूनो के साथ .

कुछ अलग सा और ख़ास हैं इस बार राहुल गाँधी का अमेठी दौरा ,दिखे तीखे तेवर

सालों से हाशिए पर चल रह कांग्रेस का सेवादल अब फिर से नए रुप में सामने आने जा रहा है. सेवादल के लिए नया ड्रेस कोर्ड लागू कर दिया गया है. इसके अंतर्गत  अब सेवादल सफेद पेंट शर्ट के स्थान पर सफेद शर्ट और नीली जींस पहनेंगे, साथ ही टोपी के स्थान पर लेटेस्ट कैप लगाएंगे.

वहीं नेताओं को सलामी देने का कार्य भी अब सेवादल नहीं करेगा. साथ ही वह अब वरिष्ठ नेताओं के पैर भी नहीं छूएगा. यह बात पत्रकारों से चर्चा करते हुए कांग्रेस सेवादल के मुख्य संगठन पूरन कुशवाह ने कही हैं .

अब संगठन का विस्तार करने के लिए जो पदाधिकारी 10 सालों से पदों पर बने हुए हैं उन्हें आगे पदों पर पदोन्नत किया जाएगा जबकि उनके स्थान पर नवीन कार्यकर्ताओं को पदोन्नत किया जाएगा.

भाजपा नेता ने कमलनाथ को बताया खरा चांदी का सिक्का ,शिवराज हैं खोटे सिक्के
You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.