Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

अमित शाह के बिहार दौरे पर भाजपाइयो ने भाजपा नेता के विरोध में लगाए पोस्टर

भाजपा कार्यकर्ताओं में अमित शाह के बिहार दौरे के समय आक्रोश देखा गया . पूरा पटना शहर भाजपा के संगठन महामंत्री के पोस्टरों से भरा हुआ था . अमित शाह के लिए यह स्थति चौकाने वाली थी .

0 428

भाजपा कार्यकर्ताओं में अमित शाह के बिहार दौरे के समय आक्रोश देखा गया . पूरा पटना शहर भाजपा के संगठन महामंत्री के पोस्टरों से भरा हुआ था . अमित शाह के लिए यह स्थति चौकाने वाली थी . साथ ही बिहार भाजपा की आंतरिक गुटवाजी में खुल कर सामने आयी हैं .भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बिहार दौर से पहले ही भाजपा में घमासान मचा हुआ था , अमित शाह के पटना आने से ठीक 24 घंटे पहले राजधानी में जगह-जगह चौंकाने वाले पोस्टर, लगा दिए गए थे .

भाजपा का कीचड वाला कमल भीड़ तंत्र के साथ ,यही हैं भाजपा का सच्चा विकास

इस पर भाजपा के संगठन महामंत्री नागेंद्र जी व उनके परिवार की संपत्ति की जांच की कराए जाने की मांग की गयी हैं , इससे भाजपा की गुटबंदी खुल कर आ गई है सामने, नतीजा शाह के आने पर राजद नेता तेजस्वी यादव व कांग्रेस को मिल गया है भाजपा व एनडीए पर हमले  एक बड़ा मौका मौका मिल गया …..

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह बिहार में भाजपा और एनडीए में सबकुछ ठीक-ठाक होने का भरोसा लेने के लिए पटना आये थे . लेकिन इस पोस्टर युद्ध  ने अमित शाह के दौरे के उत्साह पर पानी फेर दिया है. इस पोस्टर वार की सबसे बड़ी बात यह है कि बिहार भाजपा के संगठन महामंत्री नागेन्द्र जी के खिलाफ जगह-जगह पोस्टर लगाए गए हैं। इसमें संगठन महामंत्री नागेन्द्र जी और उनके परिवार की संपत्ति पर सवाल खड़े किए गए हैं .

एक कविता राहुल गाँधी पर “काल जैसी सरकार के भाल पर कालिख मलने चला हूँ “

इस पोस्टर पर निवेदक के तौर पर समस्त भाजपा कार्यकर्ता बिहार लिखा गया है. पोस्टर के माध्यम से नागेन्द्र  के साथ-साथ उनके पीए विकास सिंह और उनकी पत्नी की संपत्ति की जांच की मांग भी की गई है. साथ ही नागेंद्र जी को संगठन महामंत्री के पद से तत्काल हटाने की भी मांग की गई है. पोस्टर में आरोप लगाया गया है कि यूपी में संगठन मंत्री रहते हुए नागेन्द्र जी ने पार्टी का बंटाधार कर दिया था. बिहार को भी नागेंद्र जी उसी दिशा में ले जा रहे हैं. पोस्टर में यह भी लिखा है कि नागेन्द्र जी का बिहार में कम ही दौरा होता है। वे बिहार के बाहर दौरे में अधिक व्यस्त रहते हैं.

पी एम् मोदी की पोल खोलती रिपोर्ट को राहूल गाँधी ने ट्विटर में डाल मचाया तहलका
You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.