Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

बसपा सुप्रीमो मायावती के साथ तीन राज्यों में गठबंधन कर चुनाव लडेगी कांग्रेस ,

कांग्रेस ने जहाँ तीन राज्यों में बसपा के साथ मिल कर तीन राज्यों में विधान सभा चुनाव साथ लड़ने का मन बना लिया हैं . इसी के साथ मध्यप्रदेश के अध्यक्ष कमल नाथ ने भी माया वती से इस पर बृहद रूप से चर्चा के लिए मिलने का मन बना लिया था . 

0 1,342

कांग्रेस ने जहाँ तीन राज्यों में बसपा के साथ मिल कर तीन राज्यों में विधान सभा चुनाव साथ लड़ने का मन बना लिया हैं . इसी के साथ मध्यप्रदेश के अध्यक्ष कमल नाथ ने भी माया वती से इस पर बृहद रूप से चर्चा के लिए मिलने का मन बना लिया था .

कैराना चुनाव परिणामो के बाद मायाबती का वोट बेंक उनको भले ही वापिस मिल गया हो . इन परिणामो ने उनकी बार्गेनिग पावर बड़ा दी हैं .

भाजपा की बुरी हार पर ,घमंड अब भी बरकरार ,जिन्ना पर गन्ना भारी पड गया .

एसपी प्रमुख अखिलेश यादव ने मायावती के इस सम्‍मानजनक वाले बयान पर कहा था कि आप जानते हैं सम्‍मान देने में हम लोग आगे हैं…और सम्‍मान कौन नहीं देगा यह भी आप जानते हैं. अखिलेश के इस बयान से साफ जाहिर है कि वह भी गठबंधन को लेकर किसी तरह की बेसब्री नहीं दिखा रहे हैं. एसपी और बीएसपी में सीट बंटवारे को लेकर जो फार्मूला तैयार हुआ है वह 2014 में पार्टी के स्थिति के आधार पर है.

जो दल लोकसभा चुनाव में दूसरे स्‍थान पर रहा था वहां उसी दल का उम्‍मीदवार इस बार चुनाव लड़ेगा. टाइम्‍स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार इस आधार पर बीएसपी को 80 में 34 सीट मिल रही थी और एसपी को 31. इस गठबंधन में कांग्रेस और आरएलडी को भी जगह मिलनी है.

“रक्षामंत्रालय में रिश्वतखोरी पर मीडिया का खुलासा”,चुप क्यों हैं चौकीदार : राहुल गाँधी

एक जून को बीएसपी और कांग्रेस राजस्‍थान, मध्‍य प्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनाव साथ लड़ने को तैयार हैं. मध्‍य प्रदेश में कांग्रेस बीएसपी के लिए 30 सीट छोड़ेगी. वहीं राजस्‍थान, छत्‍तीसगढ़ में सीट बंटवारे को लेकर दोनों दलों के वरिष्‍ठ नेताओं के बीच चर्चा जारी है. बीएसपी यूपी में सपा के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है. हालांकि अभी गठबंधन को लेकर तस्‍वीर साफ नहीं है.

मायावती और कांग्रेस में राजस्‍थान, मध्‍य प्रदेश और छत्‍तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव को लेकर बातचीत हुई है. इसमें एमपी में बीएसपी को 30 सीट देने पर कांग्रेस राजी हो गई है.

इसके साथ ही मायावती 2019 के लोकसभा चुनाव में यूपी में टिकट बंटवारे के लिए भी रणनीति बना रही हैं. वह यूपी की 80 में से कम से कम 40 लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ना चाहती हैं. बीते हफ्ते लखनऊ में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा था कि अगर बीएसपी को महागठबंधन में ‘सम्‍मानजनक’ स्थिति नहीं मिली तो वह लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेंगी.

असाम में गिर सकती हैं भाजपा की सरकार ,एक और सहयोगी पार्टी ने छोड़ा साथ

 

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.