Azadmanoj
Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

पी एम् मोदी पहले राहुल गाँधी से हारे अब पंडित नेहरु से लड़ते लड़ते उनसे हार गए

पी एम् मोदी के बढ्बोले पन ने उनके ज्ञान को देश के सामने ला दिया हैं .समझ नहीं आ रहा पी एम् मोदी साहब झूठ बोल रहे हैं . या कोई हैं जो उनकी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर छीछालेदारी कराना चाहता हैं

0 57

जैसे गुरु वैसे चेला, हो रही अज्ञान की ठेलम ठेला ,मुहावरा भाजपा पर फिट हैं

पी एम् मोदी के बढ्बोले पण ने उनके ज्ञान को देश के सामने ला दिया हैं .समझ नहीं आ रहा पी एम् मोदी साहब झूठ बोल रहे हैं . या कोई हैं जो उनकी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर छीछालेदारी कराना चाहता हैं . पंडित जवाहर लाल नेहरु और भगत सिंह के बारे में कुछ भी सार्वजनिक बोलने से पहले कुछ सोच लेते या जानकारी दुरस्त कर लेते .

महात्मा बुद्ध की कहानी सुना राहुल गाँधी ने बुरी तरह धोया पी एम् मोदी को

नेहरु जी न केवल भगत सिंह से मिल कर आये थे अपितु उनके साथ बंद उन सारे क्रांतिकारी युवाओं से मिले थे . जिनकी भूख हड़ताल तुडवाने के लिए ,उनके साथ मार पीट भी की गयी थी .बटुकेश्वर दत्त ,जतिंद्र  प्रसाद जिनकी उम्र सबसे कम थी . लाहौर केस के वो सभी आरोपी जिनको यातनाये दी गयी थी नेहरूजी मिले थे . जिन सावरकर के बारे में मोदी जी बखान कर रहे थे तब नेहरु सक्रीय राजनीति में ही नहीं थे .

काफी लोग सलाह देते हैं ज्यादा नहीं बोलना चाहिए कम बोलना चाहिए . ज्यादा बोलने से आपके बारे में लोग ज्यादा जान जाते हैं और आपके व्यक्तितव को भी .

प्रधानमंत्री मोदी नेहरु जी से लड़ते लड़ते ,खुद नेहरु जी से तो हारे ही हारे पूरी भाजपा को हरा दिया .

गाहे बगाहे भाजपा के कई नेताओं का ज्ञान सुनने और देखने को मिलता रहा हैं .

मीडिया में हीरो बने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ,मोदी जी को समझा दिया हिंदुत्व का मतलब

पी एम् मोदी का अनुसरण करते हुए  त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने 23 दिन में 5वीं बार विवादित बयान दिया है. इस बार उन्होंने रबिंद्रनाथ टैगोर को लेकर गलत बयानी की है. सूबे के उदयपुर कस्बे में हुई एक सभा में उन्होंने कहा कि अंग्रेजों के विरोध स्वरूप रबिंद्रनाथ टैगोर ने नोबेल पुरस्कार वापस कर दिया था.

बिप्लब के इस बयान पर विपक्षी दल सीपीआई (एम) व कांग्रेस ने उन्हें आड़े हाथों लिया है। उन्हें भविष्य में ऐसे मसलों पर बयान न देने की नसीहत दी है, जिसके बारे में जानकारी न हो. वहीं, भाजपा ने विपक्षी दलों पर बेवजह की बातों को मुद्दा न बनाने के लिए कहा है.

 

यहाँ गौरतलब हैं  रबिंद्रनाथ टैगोर को 1913 में गीतांजलि के लिए नोबेल पुरस्कार मिला था . उन्होंने कभी भी यह पुरस्कार लौटाया नहीं थी. हालांकि 1919 में जलियांवाला बाग में हुए नरसंहार के विरोध में टैगोर ने अंग्रेजों की ओर से दी गई नाइटहुड की उपाधि लेने से इनकार कर दिया था.

17 अप्रैल को अगरतला में एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा था कि इंटरनेट आज का आविष्कार नहीं है, बल्कि इसका इस्तेमाल महाभारतकाल से हो रहा है.महाभारत में संजय, अंधे धृतराष्ट्र को युद्ध का आंखों देखा हाल सुना रहे थे. ये घटना इंटरनेट और सैटेलाइट के बिना नहीं हो सकती थी.

राहुल गाँधी के आक्रामक अंदाज़ ने उड़ाई भाजपा के पी .एम् मोदी और शाह की नीद

26 अप्रैल को उन्होंने एक कार्यक्रम में मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता पर सवाल उठाए थे. उन्होंने कहा था कि 21 साल पहले मिस वर्ल्ड खिताब जीतने के लायक नहीं थीं.

अभी लिस्ट यहाँ समाप्त नहीं हो जाती ,जिन्ना को महान पुरुष बताने वाली एक भाजपा सांसद जिनका नाम सावित्री फुले हैं . उन्होंने भी इस क्लब में शामिल होने के लिए आवेदन दे दिया  हैं .

अभी इस लिस्ट में कितने नाम और आयेंगे ये देखना बाकी हैं .

588 Shares

Leave A Reply

Your email address will not be published.