Azadmanoj
Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

दो निर्दलीय विधायको के साथ कांग्रेस ने पलटी बाज़ी ,भाजपा को करारा झटका

साम दाम दंड भेद की नीति से लोकतंत्र को ध्वस्त कर दिया गया था . कर्नाटक की सत्ता के लिए मोदी के वफादार वजू भाई जो वर्तमान में कर्नाटक के राज्यपाल हैं,उन्होंने सिर्फ दिल्ली का आदेश मान संविधान

0 913

आज़ादी के बाद हर भारत वासी के पास दो बड़े गौरव थे . एक भारत माता के गले में सुशोभित लोकतंत्र की माला ,और एक ग्रन्थ जिसका नाम देश का संविधान था . उनको अपने पैरो तले रौंद दिया था मोदी सरकार ने सिर्फ सत्ता के लिए .

साम दाम दंड भेद की नीति से लोकतंत्र को ध्वस्त कर दिया गया था . कर्नाटक की सत्ता के लिए मोदी के वफादार वजू भाई जो वर्तमान में कर्नाटक के राज्यपाल हैं,उन्होंने सिर्फ दिल्ली का आदेश मान संविधान की मर्यादा को टाक पर रख भाजपा को कम संख्याबल होते हुए भी सरकार बनाने के लिए बुलाया था . भाजपा के मुख्यमंत्री के रूप में येदुयूरप्पा को मुख्य मंत्री पद की शपथ दिला दी .

भाजपा की हडबडी ,राज्यपाल की हड़बड़ी ,राहुल गाँधी से डर गया पी एम् मोदी

कांग्रेस ने भी अपने आक्रामक रुख दिखाना शुरू कर दिया हैं . राज्य पाल के आवास के सामने गुलाम नवी आज़ाद सिद्धारमैया समेत सारे विधायको के साथ धरने पर बैठ गये हैं . राहुल गांधीने भे सोशल साईट के जरिये भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा हैं की कम् संख्याबल होते हुए भाजपा का सरकार बनाना संविधान का मजाक उड़ाने  जैसा हैं  अपनी खोखली जीत का ज़श्न मना रही हैं . भारत आज लोकतंत्र की हार का शोक बनाएगा .

यूँ  भी अभी सही पोजीशन आज दो बजे के बाद सामने आयेगी जब भाजपा और केंद्र सरकार के वकील यदुरप्पा की चिट्ठी सुप्रीम कोर्ट के जजों के सामने पेश करेंगे .

कर्णाटक चुनावों में अपनी बिसात पर कांग्रेस को खिलाना छह रहे थे अमित शाह आज उनकी बाज़ी उलट गयी हैं .

देवगौड़ा सहित जे डी एस और कांग्रेस के 77 विधायक और दो निर्दलीय विधायक भी बैठे थे नागेश और आर शंकर  ,जिनके बारे में भाजपा अपने साथ होने का दम भर रही थी . वो धरने में कांग्रेस के साथ बैठे थे .कांग्रेस के एक विधायक जिनका नाम आन्नद सिंह सीधे पी एम् मोदी के संपर्क में हैं .

भाजपा की राजनैतिक बाज़ी पलट गयी हैं .

कर्नाटक में भाजपा के 6 विधायक कांग्रेस के सम्पर्क में ,कांग्रेस नेता का दावा

348 Shares

Leave A Reply

Your email address will not be published.