Azadmanoj
Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

अब चारो तरफ सी घिर रही हैं भाजपा ,यशवंत सिन्हा ने खोला मोदी और शाह का मंसूबा

कर्नाटक राज्य में राज्यपाल और पी एम् मोदी की मिली भगत का आरोप कांग्रेस ने लगाया हैं . साथ ही कांग्रेस ने आज पूरे देश में लोकतंत्र बचाओ का नारा दे कर कार्यकर्ताओं को सड़क पर आने का आवाहन किया हैं

0 313

कर्नाटक राज्य में राज्यपाल और पी एम् मोदी की मिली भगत का आरोप कांग्रेस ने लगाया हैं . साथ ही कांग्रेस ने आज पूरे देश में लोकतंत्र बचाओ का नारा दे कर कार्यकर्ताओं को सड़क पर आने का आवाहन किया हैं .

भाजपा में पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा हो ,या वरिष्ठ वकील रामजेठमलानी ,या फिर भाजपा के ही सहयोगी दल शिवसेना सब मोदी के विरोध में एक तरफ़ा लाम बंद हो रहे हैं .

कर्नाटक में भाजपा की सत्ता पाने की चाहत ने भाजपा के मंसूबो को जाहिर कर दिया हैं . वो अलग बात हैं की एक ब्यान दे कर भाजपा चारो तरफ से घिरी हुई नज़र आ रही हैं.

कर्नाटक राज्यपाल के फैसले से अपने ही जाल में फंस कर ,बौखलाई भाजपा

बीजेपी छोड़ चुके पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा एकबार फिर केंद्र सरकार पर हमलावर हैं. यशवंत  सिन्हा ने कर्नाटक में बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता देने वाले राज्यपाल वजुभाई और सीएम पद की शपथ लेने वाले येदियुरप्पा और बीजेपी के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है.

यशवंत सिन्हा ने राजधानी दिल्ली में राजपथ पर लोकतंत्र बचाओ, इंडिया बचाओ की मांग को लेकर राष्ट्रपति भवन के सामने अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए हैं.

यशवंत सिन्हा ने कहा कि मुझे खुशी है कि मैंने उस पार्टी का साथ छोड़ दिया, जो कर्नाटक में लोकतंत्र को नष्ट करने का बेशर्मी भरा प्रयास कर रही है. यदि वह अगले साल लोकसभा चुनाव में बहुमत हासिल करने में विफल रहने पर भी ऐसा ही करेगी.

कृपया मेरी चेतावनी पर ध्यान दें. सिन्हा यहीं नहीं रुके, कर्नाटक में हो रहे राजनीतिक घटनाक्रमों को उन्होंने लोकसभा चुनावों का अभ्यास करार दिया. पूर्व वित्त मंत्री ने ट्वीट कर कहा, ‘कर्नाटक में आज जो हो रहा है वह एक अभ्यास है, जिसे 2019 में लोकसभा चुनाव के बाद दिल्ली में दोहराया जाएगा . ये कह कर यशवंत सिन्हा ने पी एम् मोदी और अमित शाह के मंसूबो को खोल कर रख दिया था .

दो निर्दलीय विधायको के साथ कांग्रेस ने पलटी बाज़ी ,भाजपा को करारा झटका

यशवंत सिन्हा के साथ बीजेपी और राज्यपाल के खिलाफ इस धरने में उन्हें अन्य पार्टियों का भी समर्थन मिला है। सिन्हा के साथ आम आदमी पार्टी, आरजेडी और समाजवादी पार्टी के नेता भी धरने पर बैठे हैं. सिन्हा ने कहा कि यह धरना उस समय तक जारी रहेगा जब तक कर्नाटक की जनता को न्याय नहीं मिल जाता। उन्होंने आगे कहा कि अब बीजेपी जहां कहीं भी अल्पमत में होगी, तो कहेगी उसे बहुमत मिल गया है. जहां सरकार बनाने के लिए 112 सीटें होनी चाहिए वहां 104 सीट का मतलब बहुमत नहीं होता है.

सुप्रीम कोर्ट ने येदीयूरप्पा की राज्यपाल को लिखी चिट्ठी कोर्ट में तलब की

Leave A Reply

Your email address will not be published.