Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

कर्नाटक के नतीजों से भाजपा और मोदी को लगेगा बड़ा झटका

कल कर्णाटक चुनाव के नतीजे घोषित हो जायेंगे . संभवत इस समय तक कल स्थिति स्पष्ट हो चुकी होगी. साथ ही विपक्ष को भी 2019 केलिए वो दल मिल जाएगा जिसकी अगुआई में लोकसभा का चुनाव भगवा भाजपा के खिलाफ मिल कर लड़ा जाएगा .

0 129

 

कल कर्णाटक चुनाव के नतीजे घोषित हो जायेंगे . संभवत इस समय तक कल स्थिति स्पष्ट हो चुकी होगी. साथ ही विपक्ष को भी 2019 केलिए वो दल मिल जाएगा जिसकी अगुआई में लोकसभा का चुनाव भगवा भाजपा के खिलाफ मिल कर लड़ा जाएगा . वैसे तो ममता बनर्जी और तेलंगाना के मुख्यमंत्री एक नये तीसरे मोर्चे का स्वपन पाले बैठे हैं.

कर्नाटक के चुनाव प्रचार में कांग्रेस के आगे बेबस दिखी भाजपा की रणनीति

लेकिन शरद यादव  का कुछ अलग ही सोचना हैं .  वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव ने कहा है कि उन्हें 2019 के आम चुनावों से पहले तीसरा मोर्चा उभरने की संभावना नहीं दिख रही है. उन्होंने सुझाव दिया कि सत्तारूढ़ भाजपा का मुकाबला करने के लिए सभी विपक्षी दलों को एकजुट हो जाना चाहिए. शरद यादव ने रविवार को कहा कि भाजपा का विकल्प बनने के लिए कुछ राजनीतिक दलों का साथ आना काफी नहीं है.

यह पूछे जाने पर कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी और टीआरएस प्रमुख के.चंद्रशेखर राव के क्षेत्रीय दलों का संयुक्त मोर्चा बनने की कोशिशों से क्या विपक्षी एकता को झटका लगेगा?, उन्होंने जवाब दिया, “मुझे नहीं लगता कि तीसरा मोर्चा अस्तित्व में आएगा . कुछ समय इंतजार कीजिए.

शिवराज चौहान के बागी अब कमल नाथ संग मिले ,भाजपा में बैचैनी

वह लोग जो तीसरा मोर्चा बनाने की कोशिशों में लगे हैं, वही एक संयुक्त विपक्ष के बारे में बातें करना शुरू कर देंगे . उन्होंने कहा कि वह नियमित रूप से विपक्ष के सभी राजनीतिक दलों के संपर्क में हैं. जब समय आएगा तो उन सबको एकजुट कर लेंगे. उन्होंने कहा कि एकजुट विपक्ष ही एकमात्र विकल्प है. अगर दलों ने अपने संकीर्ण और क्षेत्रीय फायदे के लिए इस सच्चाई से मुंह फेरा तो भाजपा उन्हें आने वाले चुनाव में अच्छा सबक सिखाएगी.एक तरह से तीसरे मोर्चे का सपना देखने वालो के लिए शरद पवार ने आइना दिखा दिया था .

कल के आने वाले कर्नाटक चुनाव के नतीजे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के लिए भी उतने ही महतवपूर्ण हैं . कल के नतीजों ने अगर भाजपा को कर्नाटक में पूरी तरह से साफ़ कर दिया तब लोकसभा चुनावों में उनके पीछे सारे विपक्षी दल लामबंद हो जायेंगे . यदि नतीजे बहुमत के आसपास या गठजोड़ वाली स्थति में रहे तब महागठबंधन में शामिल अन्य दलों का राजनैतिक मोल भाव ज्यादा हो जाएगा . कल के नतीजों में जहाँ भारत की भविष्य की राजनीति के संकेत छुपे हैं . वही दूसरी और  कुछ बड़े नेताओं के भविष्य भी ….

राहुल गाँधी अपनी रणनीति से ढेर करेंगे, भाजपा के शाह और मोदी का प्लान
You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.