Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

सोनिया गाँधी की डिनर पोलिटिक्स से घबराई भाजपा और मोदी मीडिया

यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी की डिनर पोलिटिक्स से भाजपा बौखला गयी हैं .मोदी मीडिया बौखाला गयी हैं . भाजपा की बैचैनी का अंदाजा इस बात से लगाया जा रहा हैं .

0 295

यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी की डिनर पोलिटिक्स से भाजपा बौखला गयी हैं .मोदी मीडिया बौखाला गयी हैं . भाजपा की बैचैनी का अंदाजा इस बात से लगाया जा रहा हैं .

मीडिया ने इस डिनर की बाबत जनता के बीच झूठी अफवाहों को हवा दी . कुछ इस तरह से खबरों को परोसा गया . जिससे ये संदेश देश की जनता में जाए की इस डिनर में कोई नेता शामिल नहीं हो रहा .

मसलन मायावती नहीं आयेंगे अखिलेश नहीं आयेंगे ,या फिर इन सत्रह दलों के अधिकतर नेताओं ने दूरी बना ली हैं .

राहुल गांधी का शंखनाद,क्या होगी कांग्रेस के महाधिवेशन में एक और गांधी की एंट्री ?

शाम होते होते मोदी मीडिया को पता लगा यहाँ तो मामला ही दूसरा हैं हर पार्टी यू पी ए चेयर पर्सन सोनिया गांधी के डिनर में जिन को बुलाया गया सबके राजनैतिक प्रतिनिधि आ रहे हैं .

तब मोदी मीडिया ने ये कहना शुरू कर दिया की बड़े नेता क्यों नहीं आ रहे .

अक्ल पर तरस आता हैं . फिर अचानक से दूसरी पार्टी के नेताओं से सवाल पूंछना की क्या आप राहुल गाँधी को अपना नेता मानेगे ?

देश की जनता के सामने भ्रम की स्थति के निर्माण करने जैसा था . पत्रकारिता धर्म छोड़ मोदी जी के प्रचार के टूल बने हुए ये पत्रकार देश के साथ धोखा देते साफ दिखाई देते हैं .

देश और विदेश में राहुल गाँधी के बढ़ते प्रभाव से मोदी सरकार में छाई बैचैनी

कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक,  झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और झारखंड विकास मोर्चा के नेता बाबूलाल मरांडी, झारखंड मुक्ति मोर्चा के हेमंत सोरेन, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी बैठक में पहुंचेंगे. मांझी ने हाल ही में एनडीए का साथ छोड़कर लालू प्रसाद के साथ हाथ मिलाया है. लालू प्रसाद के बेटे और बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के पहुंचने की भी संभावना है.

तृणमूल के सुदीप बंदोपाध्याय, डीएमके की कनिमोई, समाजवादी पार्टी के रामगोपाल यादव, सीपीएम के सीताराम येचुरी, सीपीआई के डी राजा, केरल कंग्रेस, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, रिवोल्युशनरी सोशलिस्ट पार्टी और आरएलडी के नेताओं के हिस्सा लेने की संभावना है.

सोनिया गांधी ने यह पहल ऐसे समय में की है जबकि गैर बीजेपी, गैर कांग्रेस मोर्चा की संभावनाओं को लेकर चर्चा हो रही है. इससे पहले टीआरएस प्रमुख और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने इस मामले में राष्ट्रीय स्तर पर विचार विमर्श करने का प्रस्ताव दिया था.

राम नरेश अग्रवाल के ब्यान को ले कर बबाल हुआ गहरा, भाजपा की छीछालेदारी

कांग्रेस के करीबी सूत्रों ने बताया,‘‘यह महज रात्रिभोज नहीं होगा बल्कि यह विपक्षी दलों का शक्ति प्रदर्शन भी होगा जो बीजेपी के कुशासन के खिलाफ एकजुट होकर एक मोर्चा गठित करना श्रेयस्कर समझेंगे ’’

 

शाम होते होते जब असलियत मोदी मीडिया के सामने आयी तब उसके हाथ पैर फूले . बस फिर क्या था सारे मीडिया चेनल जो मोदी भक्ति में लींन हैं . मीडिया डिबेट पर ये साबित करने पर जूट गए की सोनिया गाँधी के साथ कोई भी नेता नहीं ..

इतनी भक्ती देश के लिए की होती ,तब शायद अपना नाम इतिहास में दर्ज करा देते .

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.