in ,

राहुल गाँधी का करिश्माई सम्मोहन ,कार्यकर्ताओं में भर गया फिर से नया जोश

नेता बहुत हुए हैं ऐसे जिन्होंने इतिहास रच दिया ,कांग्रेस का गांधी परिवार अपनी सादगी और ईमानदारी और सहजता के लिए हमेशा जाना जाता रहा हैं . शायद ये परिवार एक मिसाल हैं जो सबको प्रेरित करता हैं .

stalled

नेता बहुत हुए हैं ऐसे जिन्होंने इतिहास रच दिया ,कांग्रेस का गांधी परिवार अपनी सादगी और ईमानदारी और सहजता के लिए हमेशा जाना जाता रहा हैं . शायद ये परिवार एक मिसाल हैं जो सबको प्रेरित करता हैं . तालकटोरा स्टेडियम में आये हुए कार्यकर्ताओं के हजूम और उमड़ी भीड़ खुद में कहानी कह रही थी .

अधिवेशन में खुद का पैसा खर्च कर रुके लोग ,अधिवेशन के पास के लिए जेब से पैसे देते लोग कांग्रेस और राहुल गाँधी के प्रति दीवानगी खुद बता रही थी .

ये वो सम्मोहन था राहुल गाँधी का जिसके प्रभाव में दिल्ली तक सूदूर प्रदेशो से युवक युवतिया पहुचे थे . कांग्रेस संगठन की तरफ से किसी को कोई सुबिधा नहीं दी गयी थी .

पहले नवजोत सिंह ने उड़ाया भाजपा को ,फिर उसके बाद राहुल गांधी ने दी चेतावनी

न बस के द्वारा न ही रेल के द्वारा .विदेशो तक से कांग्रेस की विचारधारा सर जुड़े लोग इस कांग्रेस के कुम्भ में शामिल होने चले आये थे .

मीडिया चेनलो ने इस अधिवेशन को इतनी प्रमुखता नहीं दी थी . जितनी एक विपक्षी पार्टी को मिलनी चाहिए . मोदी भक्त निजी चेनलो ने सरकार की हालिया उपचुनावों में हुई हार के बाद मोदी सरकार की ब्रांडिंग शुर कर दी थी .

लेकिन दिल्ली पहुचे हुए कांग्रेस के राहुल समर्थको के अलावा दूर बैठ वो लोग जो इस ऐतहासिक क्षण के जीवंत हिस्सा न बन कर सोशल मीडिया के जरिये इस कुम्भ की तपिश को महसूस कर रहे थे .

पल पल की हर खबर के लिए यू tube पर लगे हुए थे .

ख़ास हैं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी का ये पहला कार्यकर्त्ता अधिवेशन

राहुल गाँधी आये और एक के बाद एक सावरकर विचारधारा की पोल खोलते चले गए . उन्होंने कहा जब हमारे नेता अंग्रेजो से लड़ रहे थे . जेल के अन्दर जमीन पर सो रहे थे . संघ और सावरकर अंग्रेजो से माफी मांग रहे थे . राहुल गाँधी ने खाली स्टेज की तरफ ईशारा करते हुए बोला . ये स्टेज मैनें आप लोगो के लिए खाली किया हैं . कार्यकर्ताओं के अलावा जो भी प्रतिभाशाली युवक हैं महिलाए हैं . वो आये उनका स्वागत हैं .

उन्होंने साफ़ कहा संगठन को अब बदलना होगा . मेरी बात शायद कुछ लोगो को सही न लगे लेकिन ये हकीकत हैं . बदलना होगा . इतना कहते ही कार्यकर्ताओं की तालियों की गूँज और नारों ने अजाब समां बाँध दिया था .

राहुल गाँधी ने भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह के बारे में बोला की वो एक हत्या आरोपी होने के बाद भी भाजपा के अध्यक्ष हैं . ये कांग्रेस में नही हो सकता .

भाजपा और कांग्रेस में एक बुनियादी फर्क कार्यकर्ताओं को बताया हम अपनी गलती मान लेते हैं . वो कभी अपनी गलती नहीं मानते .

सोनिया गाँधी के भाषण के बाद ,माँ से लिपट गए भावुक राहुल गाँधी ,भावुक हुए कार्यकर्त्ता

वीडियो कोना

राहुल गाँधी का करिश्माई सम्मोहन ,कार्यकर्ताओं में भर गया फिर से नया जोश
5 (99.07%) 151 votes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

earlier

पहले नवजोत सिंह ने उड़ाया भाजपा को ,फिर उसके बाद राहुल गांधी ने दी चेतावनी

scandal

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने फंसा दिया पेच , भाजपा की बड़ी परेशानी