Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

गांजे का नशा देता हैं बड़ा मज़ा ,जगहसाई हो तो क्या ? तथ्य वीर हैं पी एम् मोदी

साधू संतो के बीच की  बात हैं .... और ये पौराणिक कहानियों से भी जुडी हैं . भगवान् की बूटी महाकाल की बूटी ,गौरा जी पीसे भांग . ये सब पुरातन और पौराणिक कहानियों में चर्चा का विषय रहे हैं .

0 233

साधू संतो के बीच की  बात हैं …. और ये पौराणिक कहानियों से भी जुडी हैं . भगवान् की बूटी महाकाल की बूटी ,गौरा जी पीसे भांग . ये सब पुरातन और पौराणिक कहानियों में चर्चा का विषय रहे हैं .

किदवन्तिया  इतिहास नहीं हो सकता उसके लिए तथ्यों की आवश्यकता होती हैं . ऐसी असंख्य किदवन्तिया  हैं जिनके बारे में केवल सुना गया हैं प्रमाण नहीं हैं .

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के कहने पर अजय माकन और शीला दीक्षित अब साथ साथ

आज कल किदवन्ति जनको को दूसरी भाषा में गपोड़ कहा जाता हैं . ऐसे लोग जो भाई बहन के रिश्ते में भी वासना के अवसर ढूंढते हैं .ये रिश्ता भी छोड़ दो वो हर उस पवित्र रिश्ते में अपनी अलग तरह का चश्मा पहन नज़रिया बना कर अफवाह को सच बताने लगते हैं .

आज कल देश की राजनीति में ऐसा ही कुछ हो रहा हैं ,सब कुछ मज़ा मा लागे छे …

अगर ज्ञान न हो और कोई भी बात किसी नेता द्वारा किसी के बारे में यूँ ही बोल दी जाए तब वो नेता उपहास का पात्र बन जाता हैं . कुछ नेता जो लोकतंत्र में जनता के मत से देश की किस्मत लिखने वाले बन जाते हैं . उनको शायद जब  कभी अहंकार  हो जाता हैं .

वो अपनी ही दुनिया में अपने हिसाब से नये इतिहास को जन्म देने में जूट जाते हैं .

कहा जाता हैं अगर कोई गलत बात बार बार बोले तब वो मति भ्रम हैं या कोई नशा जिसके कारण मस्तिष्क के तंतु  में बदलाव आ जाते हैं . गांजे का नशा भी ऐसा हैं ये दिमाग में उसी बात को सच की तरह फिट कर देता हैं जो सेवन करने वाला चाहता हैं .

राहुल गांधी की कांग्रेस को फोलो किया बिग बी ने ,कांग्रेस ने किया स्वागत

नशे के का मारा ये बेचारा कल्पना लोक में अपनी ही मान्यताओं पर जीता रहता हैं . दुसरे लोगो को भी अपनी तरह का इतिहास बता कर उनका भी  विचार शोषण कर लेता हैं .

आज कल हमारे देश के ही साथ कुछ ऐसा ही होने लगा हैं .

देश में लोकतंत्र के मंदिर में वर्तमान पी एम् पता नहीं कौन सा पिछला साथ साल का भ्रामक इतिहास बताने लगते हैं . देश के मीडिया चेनल उसी को इतिहास बता कर पूरे देश में प्रचारित करने लगते हैं . तरस आने लगा हैं पत्रकारों की पत्रकारिता पर जो नोटों में माइक्रो  चिप होने की बात करते हैं ……..

कुछ दिन पहले पी एम् मोदी जी का भाषण संसद से लाइव देखने का सौभाग्य प्राप्त हो गया . जिस तरह से उन्होंने बोलना शुरू किया लोग उनके साथ उस जोश और आवेग में भूल गये की वो बोल क्या रहे हैं …?

कैसे कैसे उदाहरण और तथ्य सत्य से परे पेश कर रहे हैं …

बहुत सी बाते उन्होंने शुद्ध  रूप से झूठ बोली या उनको जानकारी या भाषण लिखने वाले की ग़लती रही . जो कुछ भी उन्होंने बोला उसने देश को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मसार  कर दिया .

राहुल गाँधी ने इस बार पंडित नेहरू पर बोलने वाले पी एम मोदी को दिया करारा ज़बाब

भारत की संसद की तरफ विश्व का मीडिया अमेरिका के बाद नज़र बनाए रखता हैं . विदेशो में इस बात को ले कर पता नहीं कितनी ही चर्चाये हुई .

इन्टरनेट पर उनके दिए भाषणों की सत्यता परखने के लिए खोज शुरू हो गयी थी . विकिपीडिया पर इन्टरनेट यूजर का जमावड़ा आ जूटा ….

प्रधान सेवक ने संसद में जो भी बोला 56 इंची सीने को ठोंक के बोला आत्मविश्वास दिखाने की कोशिश की लेकिन कांग्रेसी विरोध के कारण आत्म विश्वास डगमगाया  हुआ था . राफेल नाम की तलवार जो सर पे आ के लटक गयी हैं …..

ये माना पी एम् मोदी जी का सामान्य ज्ञान नेहरु जी और पटेल के बारे में एक संघ छात्र की तरह हैं होना भी चाहिए आज तक अब तक यही सब कुछ फैलाया गया हैं . ये कोई नई बात नहीं लगती .

परन्तु भारत देश की उस जनता का क्या जिसकी आबादी 600 करोड़ हैं ?

एक बात उन्होंने स्वर्गीय भूतपूर्व शहीद पी एम् राजीव गाँधी के बारे में बोली . एक कांग्रेसी दलित मुख्यमंत्री के अपमान को ले कर ..

राहुल गांधी के सवालों पर मचा भाजपा में हडकम्प ,राफेल पर फेल हुए मोदी

वो थी उसके बाद एन टी रामाराव ने तेलगू देशम बना कर कांग्रेस से अपमान का बदला लिया .

शायद पी म मोदी आज कल विकिपीडिया पर नहीं जाते ?

जाए और देखे की एन टी रामाराव ने तेलगू देशम पार्टी 1982 में बनाई थी . जब स्व भूतपूर्व आदरणीय इंदिराजी पी एम् थी .

शहीद राजीव गांधी का राजनीति में उस समय दूर दूर तक पता नहीं था . उस समय वो केवल एक सांसद थे .

भाषण देने से पहले पी एम् मोदी ने काश सही जानकारी ले ली होती .

अब नया शगूफा सुनो डाक्टर मनमोहन सिंह के जमाने में शुरू हुई परियोजना जिसमे पहली बार मंगल यान छोड़ा गया . उस पर लागत पी एम् मोदी बड़ी शान से बताते हैं की सात रूपये पर किलोमीटर खर्चा आया .

ये बताना भूल जाते हैं की देश के ही नागरिक महंगे पेट्रोल और डीजल की वज़ह से देश के अन्दर 12 रूपये पर किलोमीटर का भाडा दे कर आते जाते हैं . कांग्रेस के काम विदेश में भुनाओ और अपनी ही मज़ाक खुद उड़वा लो . आपका क्या घिसता हैं जाता हैं तो देश का मान सम्मान …

गुजरात की भाजपा सरकार ने लगाईं वाटर इमरजेंसी ,किसान बड़े आन्दोलन की राह पर

हद तो जब हो गयी जब आज अरब देशो की यात्रा पर पी एम् मोदी बोल गये की GST का बिल पिछले साठ साल से पास नहीं हुआ था .

जबकि इसकी परिकल्पना कांग्रेस के जमाने में हुई थी वो भी अस्सी के दशक मे जिसका विरोध भाजपा करती रही .

जितना गलत बयानी पी एम् सब के भाषणों में होती हैं इतना तो गोवा में लडकी बीयर पीने के बाद भी नहीं बोलती अपना नाम सही बताती हैं और अपने घर का पता भी ….?

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.