Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

राजा दिग्विजय सिंह का ब्यान नर्मदा परिक्रमा के बाद पकोड़े तो नहीं तलेंगे

नर्मदे हर के साथ राजा दिग्विजय सिंह द्वारा की जा रही नर्मदा  परिक्रमा यात्रा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय को एक बड़े क्षत्रप की तरह स्थापित कर रही है, जिनके पास सबसे ज्यादा समर्थक हैं..

0 307

नर्मदे हर के साथ राजा दिग्विजय सिंह द्वारा की जा रही नर्मदा  परिक्रमा यात्रा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय को एक बड़े क्षत्रप की तरह स्थापित कर रही है, जिनके पास सबसे ज्यादा समर्थक हैं.. 10 साल तक मुख्यमंत्री इसके पहले 10 साल तक प्रदेश अध्यक्ष रहकर उन्होंने कार्यकर्ता से सीधा संवाद जोड़ा है. वे एक एक कार्यकर्ता को जानते हैं, और उसे नाम से पुकारते हैं. ऐसी पकड़ किसी और नेता की नहीं हैं .

कांग्रेस नेताओं का अपना मानना हैं की आने  वाले विधानसभा चुनाव में राजा दिग्विजय सिंह  अब महत्वपूर्ण भूमिका में होंगे. उनकी नर्मदा परिक्रमा कांग्रेस कार्यकर्ता को खींचकर मैदान में ला रही है. यह कांग्रेस की वापसी के संकेत हैं.

दिग्विजय सिंह की इस परिक्रमा का बड़ा श्रेय उनकी पत्नी अमृता सिंह को देते हुए कहते हैंं कि इतनी कठिन और मुश्किल यात्रा में जिस तरह उन्होंने अपने पति का साथ दिया है, वह काबिले तारीफ है. उनके सहयोग के बिना दिग्विजय यह यात्रा नहीं कर सकते थे.

राहुल गाँधी ने युवा कार्यकर्ताओं से अशोक गहलौत को बताया उनके लिए प्रेरणा पुंज

2018 का यह विधानसभा  चुनाव एक तरह से उनके राजनीतिक भविष्य  का टर्निंग पाइंट बनकर उभर रहा है. वे न सिर्फ अपनी छवि बदल रहे हैं, बल्कि अब उन्हें एक उदारवादी हिंदू नेता के बतौर पहचान मिल रही है..

जो उनके राजनीतिक विरोधियों के लिए भी करारा जवाब है जो यह आरोप लगाते रहे हैं कि दिग्विजय कार्यकर्ताओं के तो नेता हैं, लेकिन जनता के नेता नहीं हैं. यह परिक्रमा उन्हें जनता के बीच एक धार्मिक  हिंदू नेता के बतौर स्थापित कर रही है .

दिग्विजय सिंह इस नर्मदा परिक्रमा से मध्य प्रदेश में अपनी राजनीतिक ताकत को बढ़ा रहे हैं. जिस तरह से कांग्रेस कार्यकर्ताओं के  हुजूम उनकी परिक्रमा में उमड़ रहे  है वह उनके प्रभाव को नए सिरे से स्थापित कर रहा है .

मेरी राजनीती का रंग काला हो सकता हैं भगवा नहीं :- कमल हासन

.दिग्विजय सिंह परिक्रमा के दौरान न तो वे कोई राजनीतिक बयान दे रहे हैं और न ही राजनीतिक मुद्दे उठा रहे हैं, लेकिन फिर भी कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता मानने लगे हैं कि दिग्विजय सिंह अब प्रदेश की राजनीति में मुख्यमंत्री पद के दावेदार के बतौर उभर रहे हैं .

2400 किमी की पैदल परिक्रमा पूरी कर जबलपुर पहुंचे दिग्विजय ने बयान दिया है कि वे राजनेता हैं, और इस धार्मिक यात्रा के बाद कोई पकौड़े नहीं तलने वाले हैं.

इस ब्यान ने भाजपा के कई सूरमाओं के कान खड़े कर दिए हैं . प्रदेश की राजनीति से सन्यास ले चुके राजा दिग्विजय सिंह क्या फिर से प्रदेश की राजनीति में वापिसी करेंगे . इसके अनुमान लगने शुरू हो गए हैं .

देश पीडीपी और बीजेपी के अवसरवादी गठबंधन की सजा भुगत रहा है :-राहुल गाँधी
You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.