Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

सुप्रीम कोर्ट के जजों के आरोपों के बाद राहुल गाँधी ने बुलायी अपने आवास पर बैठक

आज सुप्रीम कोर्ट के जज एक प्रेस कांफ्रेंस के ज़रिये जनता के सामने वर्तमान हालातो पर सरकार की कारगुजारियो और चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के आचरण और व्यवहार पर अपने अलग तरीके से सवाल उठाये हैं .

0 170

आज सुप्रीम कोर्ट के जज एक प्रेस कांफ्रेंस के ज़रिये जनता के सामने वर्तमान हालातो पर सरकार की कारगुजारियो और चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के आचरण और व्यवहार पर अपने अलग तरीके से सवाल उठाये हैं .

जजों की प्रेस कांफ्रेंस के बाद सियासी भूचाल  से पूरा देश हिल गया हैं . मोदी के राज में अब लोकतंत्र खतरे में हैं . लोकतंत्र के चारो स्तम्भ अब मोदी सरकार में ध्वस्त हो गए हैं .

सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों ने चीफ जस्टिस पर उठाये कुछ सवाल ,ये हैं पांच मुद्दे ख़ास

कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (सीपीआई) के नेता डी. राजा ने आज जस्टिस चेलमेश्वर से मुलाकात के बाद कहा कि जजों द्वारा उठाया गया कदम हैरान कर देने वाला  है, और यह न्यायपालिका के गहरे संकट को दर्शाता है.

जस्टिस चेलमेश्वर के साथ उनका रिश्ता बहुत पुराना है. वे अपनी परेशानियां  मेरे साथ बांटते हैं. अगर उनकी कुछ चिंताएं हैं, तो सारे सांसदों को इस मामले पर विचार करके उसका हल ढूंढ़ने की जरूरत है.

जजों  की प्रेस कांफ्रेंस के बाद महत्वपूर्ण मोड़ जब आ गया . इस मामले को ले कर राहुल गाँधी काफी गंभीर दिखाई दिए . सुप्रीम कोर्ट के इस मसले पर  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी की बैठक बुलाई है. शाम पांच बजे राहुल के घर पर ये बैठक होगी.

इस बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं समेत पार्टी से जुड़े कई वकील भी शामिल होंगे. जानकारी के मुताबिक, इस बैठक के बाद  इस मामले पर कांग्रेस की अपनी प्रतिक्रिया आएगी.

मकर संक्रांति पर राहुल गाँधी की “खिचडी भोज ” के साथ लोकसभा की तैयारी शुरू

कांग्रेस की इस बैठक से पहले पूर्व कानून मंत्री और वरिष्ठ वकील सलमान खुर्शीद ने जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस को काफी दुखद और दर्दनाक बताया है. उन्होंने कहा कि देश की सर्वोच्च अदालत का ये हाल हो गया है कि वहां के जजों को मीडिया में आकर अपनी बात कहनी पड़ रही है.
वहीं, वरिष्ठ वकील और बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि जजों ने बेहद गंभीर मुद्दा उठाया है. स्वामी ने कहा कि मुद्दे को उठाने वाले चारों जज बेहद ईमानदार हैं और उनकी मंशा पर सवाल नहीं उठाया जा सकता. यही नहीं, बीजेपी नेता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी इस मामले में दखल देने की मांग की हैं .

समाचार मिलने तक पी एम् मोदी ने क़ानून मंत्री रविशंकर को अपने यहाँ तलब कर लिया था .बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सुप्रीम कोर्ट को लेकर हुई जजों की प्रेस कॉन्फ्रेंस पर दुख जताया है.

विश्व के ठंडे देशों में लाशें बिछ जाती आखिर मीडिया डरता क्यों हैं : हार्दिक पटेल

उन्होंने कहा कि कोर्ट के मामलों को लेकर सुप्रीम कोर्ट के चार जजों से मिली जानकारी ने देश के एक नागरिक के रूप में हमें निराश किया है. उन्होंने कहा कि न्यायपालिका और मीडिया लोकतंत्र के खंभे हैं. लोकतंत्र के लिए न्यायपालिका में केंद्र सरकार का दखल देना वाकई बहुत खतरनाक हैं .
हालांकि, मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए जजों की इस प्रेस कॉन्फ्रेंस पर सरकार ने दूरी बनाई हुई है.

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.