facebook
Azadmanoj
Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

बाल दिवस : बच्चों से बहुत लगाव था ,भारत के प्रथम प्रधानमंत्री चाचा नेहरु को

आज हैं प्रथम प्रधान मंत्री स्व पंडित जी का जन्म दिन भी हें

0 36
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

बाल दिवस १४ नवम्बर को ही क्यों ?

भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन 14 नवम्बर को हम आज बाल दिवस के रूप में मनाया जाता हैं.

बच्चों से विशेष लगाव रखने वाले चाचा नेहरू जिनके बाल प्रेम की कथाएं राजनैतिक दुराभाव से प्रदूषित हो .

पूरे देश में एक स्मोग की तरह फैला दी गयी हैं .

संयुक्त राष्ट्र संघ  द्वारा घोषित इंटरनेशनल चिल्ड्रनस  डे 20 नवंबर को मनाया जाता था .

1964 में प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद सर्व सहमति से ये तय हुआ था.

जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के तौर पर मनाया जाना चाहिए.

इस तरह से आज़ाद भारत को विश्व  से अलग अपना एक बाल दिवस मिला.

संयुक्त राष्ट्र द्वारा 1954 में शुरू किए गए. अंतरराष्ट्रीय बाल दिवस का उद्देश्य दुनिया भर में,

बच्चों की अच्छी जीवन शैली को बढ़ावा देना है.

जब राहुल गाँधी ने भगवान् शिव के सहारे, विरोधियों को किया चारों खाने चित

आज के दिन हमारे देश भारत में 14 नवंबर को विशेष रूप से  स्कूलों में तरह-तरह की मजेदार गतिविधियां, फैंसी ड्रेस कम्पटीशन और मेलों का आयोजन होता है.

बाल दिवस केवल वर्तमान ही नहीं ये उनके लिए भी जो कभी बच्चे थे .

आज के दिन अपना बचपन भी स्मरण हो आता हैं .

बच्चों के ऊपर उनके करियर को ले कर बनाया जाने वाला दबाब जैसे उनके बचपन को कही निगल गया हैं .

सुबह से ही किसी भी समाचार चैनल पर इसकी चर्चा तक नहीं थी .

आज जबकि बच्चों को एक खुले वातावरण अच्छे स्वास्थ्य की आवश्यकता हैं .

वो शिक्षा नीति और प्रतियोगिता की दौड़ ने बच्चो से कही छीन लिया हैं .

सबसे ज्यादा कुपोषण की समस्या से जूझ रहा हैं हमारा देश .

नागरिकों में खुशी का स्तर गिर गया हैं .

हम बदला नहीं ,बदलाव लाना चाहते हैं गुजरात में : राहुल गाँधी

बाल दिवस जैसे आयोजन अब केवल महा नगरो और बड़े स्कूलों में सिर्फ औपचारिकता बन कर रहे गए हैं .

प्रथम प्रधान मंत्री स्व. जवाहर लाल नेहरू ने अपनी दूरदर्शिता और बहु आयामी सोच ने देश को तब बहुत सी योजनाएं दी.

जिनका आज प्रभाव बहुत स्पष्ट दिखाई देता हैं .

आओ सब मिल कर कुछ समय बच्चों के साथ बिठाये आज उनके तरीके से जी कर उनकी तरह जीना सीखे .

आज स्व पंडित नेहरू हमारे बीच न हो लेकिन उनका स्मरण आज़ाद भारत का हर व्यक्ति करेगा.

जिसने अपने सामने एक मज़बूत भारत को बनते देखा हैं .

गर्व से अपना शीश उठाये ये देश आज उन सब नेताओं के विजन का हमेशा  ऋणी रहेगा .

राहुल गाँधी के सामने गुजरात में भाजपा का आत्मघाती,आत्म समर्पण ,जी एस टी पर बदले सुर

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Leave A Reply

Your email address will not be published.