facebook
Azadmanoj
Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

भाजपा में अंदरखाने बने दो गुटों में बयानबाजी तेज़ ,क्या बगावत तय हैं ?

भाजपा में अंदर खाने लाबिंग शुरू

0 2,841
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

राजनीति में अगर सत्य बोल दो तब खूब गालियाँ मिलती हैं बहुत पिटाई होती हैं मेने सहा हैं. ये शब्द राहुल गाँधी ने अपने गुजरात दौरे के समय कह थे .

सही भी हैं आज कमोवेश वाही सब कुछ यशवंत सिन्हा के साथ हो रहा हैं . देश की अर्थवयवस्था के बारे में उनके द्वारा बोले गये बयानों पर  वित्त मंत्री से ले कर पी एम् मोदी तक की प्रतिक्रिया आ गयी हैं .

इसके अतिरिक्त मोदी समर्थको ने भाजपा के अन्दर ही भाजपा के इस वरिष्ठ नेताओं को खुली चेतावनी दी जा रही हैं . राहुल गाँधी द्वारा फाड़े गये बिल को जहाँ कभी भाजपा ने संस्कारों और बुजुर्ग नेताओं का असम्मान बताया था आज भाजपा के लोग बही कर रहे हैं सम्मान के साथ .

डोकलाम मुद्दे पर आग बबूला राहुल गाँधी ,माँगा पी एम् मोदीजी जी से ज़बाब

सबसे  पहले वित्तमंत्री अरुण जेटली की प्रतिक्रिया आयी थी यशवंत सिन्हा के ब्यान के बाद ,जेटली ने  कहा था कि कुछ लोग 80 की उम्र में भी नौकरी का आवेदन लगा रहे हैं.

फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इशारों इशारों में उन्हे महाभारत में कर्ण के सारथी शल्य की तरह निराशा फैलाने वाला व्यक्ति करार दिया था. सिन्हा ने इसके जवाब में कहा था  कि वह भीष्म पितामह के जैसे नहीं हैं जो अर्थव्यवस्था का चीरहरण होते देख चुप बैठे रहेंगे.

भाजपा शीर्ष नेतृत्व ने धमकी देने के लिए प्रवक्ता अनिल बलुनी को मीडिया के सामने मैदान में उतारा .

हार्दिक पटेल का खुला समर्थन राहुल गाँधी के साथ ,गुजरात में होगा सफाया भाजपा का ?

बलुनी ने कहा :- उनकी प्रताडि़त करने वाली गतिविधियां सहनशीलता की सीमाओं के पार जा रही हैं. बलुनी ने कांग्रेस नेता मनीष तिवारी की किताब का हवाला देते हुए  कहा कि अब यह साफ हो गया है, कि उन्होंने अर्थव्यवस्था पर कहां से ज्ञान जुटाया है.

एक कांग्रेस नेता के कार्यक्रम में उनकी मौजूदगी से पता चलता है कि उनकी अर्थव्यवस्था को कौन प्रभावित कर रहा है. यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है.

हालांकि भाजपा ने यह नहीं बताया कि यदि यशवंत सिन्हा नहीं रुके तो भाजपा क्या करेगी?

बलुनी ने गुरुवार को कहा कि  सिन्हा पूर्व की भ्रष्ट और गरीब विरोधी  सरकार का बिना पेंदी वाला समर्थक बन गए हैं.

अजब गजब बोलते और पूर्व वित्त मंत्री को धमकाते नज़र आये बलूनी.

मनीष तिवारी जो कांग्रेस नेता हैं उनकी किताब का हवाला दिया लेकिन उस आयोजन में और भी एनी दलों के नेता मौजूद थे . बलूनी कम से कम सरकार पर उठे उन सवालों का ज़बाब देते जो यशवंत सिन्हा ने उठाये थे . सीधा ज़बाब न दे कर ये तो एक  व्यक्तिगत हमल्ला भाजपा करती नजर आ रही थी .

बलूनी की प्रतिक्रिया के बाद शत्रुघ्न सिन्हा और पार्टी से निष्कासित सांसद कीर्ती आज़ाद यशवंत सिन्हा के साथ लाम्वंद नज़र आये .लगता हैं इस बार लोकसभा चुनावो से पहले भाजपा का कुनबा भारी टूट की ओर जा रहा हैं . जिसकी बगाबत के धुएं को साफ़ महसूस किया जा सकता हैं .

शाम होते होते GST की मीटिंगे में सरकार  ने कुछ उत्पादों और व्यापारिक रिटर्नो पर छूट का एलान भी किया . लगता हैं देश नहीं टेक्सो और देश की अर्थवयवस्था के साथ विकास के नाम पर प्रयोग हो रहा हैं .

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

Leave A Reply

Your email address will not be published.