Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

राहुल गाँधी का अमेरिका की बर्कले यूनिवर्सिटी में भाषण ,बेमिसाल

0 98

राहुल गाँधी का आज अमेरिका की बर्कले यूनिवर्सिटी में भाषण हुआ ,यहाँ उनके भाषण का संक्षिप्त सार हैं .

मैं विपक्ष का नेता हूं लेकिन मोदी मेरे भी प्रधानमंत्री हैं। वह एक अच्छे वक्ता हैं। उन्हें पता है कि किस संदेश को कैसे और किन लोगों तक कैसे पहुचाना हैं.

PM मोदी बीजेपी के नेताओं की भी नहीं सुनते हैं स्वच्छ भारत एक अच्छा आइडिया, मुझे भी पसंद है.नोटबंदी पर बोलते हुए राहुल ने कहा कि ऐसे फैसले मुख्य आर्थिक सलाहकार और संसद को बिना बताए या पूछे लिए गए थे.

राहुल गांधी  ने कहा कि इसकी वजह से काफी नुकसान हुआ. राहुल ने कहा कि भारत को चीन से अलग चलकर एक लोकतांत्रिक व्यवस्था में लोगों के लिए नौकरी के अवसर पैदा करने होंगे.

मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए राहुल ने कहा कि कांग्रेस सरकार नीतियों और आगे के प्लान के बारे में बात करती है थोपती नहीं है.

हमने मनमोहन सिंह के नेतृत्व में कश्मीर में आतंक की कमर तोड़ी.2013 तक हमने आतंकवाद की कमर तोड़ दी थी। मैंने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंहजी  को कहा था यह उनकी सबसे बड़ी सफलता है .

हमने कश्मीर में पंचायत चुनाव करवाए, महिलाओं को स्वयं सहायता समूह से जोड़ा, युवाओं को नौकरी दी.बीजेपी ने राजनीतिक फायदे के लिए कश्मीर का नुकसान किया हैं .

अब बिहार के मुख्यमंत्री पद से जल्द इस्तीफ़ा दें सकते हैं ,नितीश कुमार

भारत के एक बड़ा देश है, अगर कोई कहता है कि वह भारत को समझता है तो मूर्ख  है.
भारत के पास आज कई राज्य हैं, कई प्राकृतिक संसाधन है,जो लोग सोचते  थे कि भारत आगे नहीं बढ़ सकता है वो सभी गलत साबित हुए हैं.

इससे पहले राहुल गाँधी  से पूछा गया कि क्या वह नेता नहीं बनना चाहते थे?

इसपर राहुल बोले बीजेपी का एक तंत्र है जिसमें 1000 लोग कंप्यूटर पर बैठे हुए हैं और वे ही आपको मेरे बारे में बताते रहते हैं, वह तंत्र काफी अच्छे से काम कर रहा है, वे पूरा दिन मेरे बारे में अभद्र चीजें फैलाते हैं, यह तंत्र वह शख्स चला रहा है जो कि हमारे देश को भी चला रहा है.

ध्रुवीकरण की राजनीति खतरनाक हैं . इससे केवल और केवल नफरत और हिंसा को बढ़ावा मिलता हैं .राहुल ने 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुए दंगों पर भी बात की। राहुल ने कहा कि वह न्याय का इंतजार कर रहे लोगों के साथ हैं और वह हर तरह की हिंसा का विरोध करते हैं. राहुल गाँधी ने कहा अगर मैं हिंसा को नहीं समझूंगा तो कौन समझेगा? मैंने अपने पिता और दादी को हिंसा में ही खोया है.

आज रूस पाकिस्तान को हथियार बेच रहा है, जो पहले कभी नहीं हुआ ऐसा पहले नहीं होता था. नेपाल, बर्मा, श्रीलंका, मालदीव में चीन का दबदबा बढ़ रहा है, विदेश नीति में बैलेंस करना जरूरी है.
अमेरिका के साथ दोस्ती करना जरूरी लेकिन दूसरे देशों से भी रिश्ते बनाना जरूरी है.मेरे नाना ने भी यहां पर भाषण दिया था, आपने मुझे भी बुलाया उसके लिए थैंक्यू।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.