in ,

राहुल गांधी की अमेरिका में सर्जिकल स्ट्राइक से,भाजपा गेंग सदमे में

mega

राहुल गाँधी ने अमेरिका में अपने भाषण से जहाँ भारत का एक अलग नजरिया पेश किया . भी उन्होंने मोदी जी द्वारा भारत प्रचारित भ्रष्ट छवि से अलग विकसित भारत की छवी बनाने का प्रयास किया .

राहुल गाँधी ने हर मुद्दे पर बोला हर प्रश्न का उत्तर दिया . एक विपक्षी नेता के तौर पर नरेंद्र मोदी को अपना पी एम् भी कहा . चुटकी लेना भी नहीं बोले लाज़बाब वक्ता भी कहा .

अब राहुल गाँधी ने एक चरित्र का आवरण पी एम् मोदी के उलट उतार दिया तब भाजपाई खेमे में  आवाजे तो आनी स्वभाविक थी . राहुल गाँधी पर सबसे आगे प्रतिक्रिया देने के लिए आगे किया गया स्म्रति ईरानी को ,अब वो इतनी खिस्यायी थी की समझ नहीं आ रहा था की वो बोलना क्या चाह रही थी ?

राहुल गाँधी मिलेंगे अमेरिका में सत्तारूढ़ रिपब्लिकन पार्टी के नेताओं से

राहुल गांधी जी के अमेरिकी दौरे पर दिये गये भाषण का पलटवार करने मोदी ने 15 राष्ट्रीय प्रवक्ता, 5 केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, ९ केंद्रीय राज्य मंत्री लगा दिये..

ऐसा लगा राहुल गाँधी की सर्जिकल स्ट्राइक ने  सही जगह पर हमले बोले हैं ..

चड्डी जली भी है जलील भी हुई है.
कांग्रेस की तरफ से मोर्चा सम्हाला आन्नद शर्मा ने

उन्होंने कहा कहा, यह देश के प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने विदेशी धरती पर भारत का अपमान किया. प्रधानमंत्री ने अपने पहले विदेशी दौरे पर देश को भ्रष्ट किया था और उन्होंने एक अन्य मौके पर कहा था कि विदेशों में रह रहे भारतीयों को खुद को भारतीय कहने पर शर्म आती है.
उन्होंने कहा कि यह आलोचना को लेकर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की असहिष्णुता दर्शाती है.

राहुल गांधी ने कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में अपने संबोधन में नोटबंदी की आलोचना करते हुए कहा था कि केंद्र सरकार के इस फैसले से रातों रात 86 फीसदी नकदी देश की अर्थव्यवस्था से बाहर हो गई थी.

‘राहुल कांग्रेस के सूरज निकल रहे हैं. ‘मोदी के जुमलो का सूरज ढलने की राह में है

आनंद शर्मा ने  कहा, हम सरकार और सत्तारूढ़ पार्टी के इन बयानों से आश्चर्य चकित है. यह आलोचनाएं न्यायोचित नहीं है.

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा उठाए गए मुद्दे और बयानों से उनके द्वारा इतिहास की अवहेलना करना और प्रधानमंत्री से माफी मांगने की उनकी बेचैनी का पता चलता है.
राहुल गांधी ने बीते 70 वर्षो में भारत की उपलब्धियों के बारे में बात की हैं . हमको लगता  हैं कि भाजपा आखिर क्यों उनकी आलोचना कर रही है. यदि राहुल गांधी देश के प्रधानमंत्री की आलोचना कर रहे हैं तो इसमें किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए.

यह लोकतंत्र का गुण है. स्मृति ने मंगलवार सुबह एक संवाददाता सम्मेलन में कांग्रेस उपाध्यक्ष की कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में उनके संबोधन का हवाला देकर उनकी आलोचना करते हुए था कि राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री की उपेक्षा की है.

स्म्रति  ईरानी भूल गयी की विदेशो में इस परिपाठी  का प्रारम्भ विश्व में पहली बार पी एम् मोदी ने ही किया था . एक पी एम् को पानी पी पी कर कोसने की परम्परा की शुभ शुरुआत करने वाले नरेंद्र मोदी ही थे .

मोदी की बहन जायेंगी जेल, PM मोदी की बढ़ेगी मुश्किलें

 

राहुल गांधी की अमेरिका में सर्जिकल स्ट्राइक से,भाजपा गेंग सदमे में
Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

preparation

राहुल गाँधी का अमेरिका की बर्कले यूनिवर्सिटी में भाषण ,बेमिसाल

कांग्रेस ने पीछे धकेला ,भाजपा का रथ ,अमित शाह की चिंता