नितीश कुमार ने किया जनादेश का अपमान ,बिहार में गरजे ज्योतिरादित्य सिंधिया

443
set=bihar
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

कांग्रेस के युवा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया बिहार की जमीन पर नितीश को ललकार रहे थे . पटना में हुई बैठक में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं और नेताओं के बीच नितीश कुमार पर महागठबंधन से धोखा करने का आरोप लगा रहे थे .

केंद्र सरकार पर राजनीतिक हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की नीति और नियम में कोई मेल नहीं है.

पिछले तीन सालों में देश में ऐसा माहौल बनाया जा रहा है जिसमें लोगों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर लगाम लगाई जा रही है.

उन्होंने कहा कि मीडिया हो, शिक्षण संस्थान हो या संसद हो, लोगों को अपने विचार व्यक्त नहीं करने दिया जा रहा है. यह चिंता का विषय है।
भूतपूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के युवा  नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शुक्रवार को कहा कि बिहार में राजद, कांग्रेस और जदयू का महागठबंधन तोड़कर हारे हुए दल के साथ मिलकर फिर से सरकार बनाना जनादेश का अपमान है.

कांग्रेस नेता ने संवाददाताओं से कहा कि महागठबंधन का टूटना जनादेश पर किया गया कुठाराघात है.
कुछ घंटे में निर्णय लेकर फिर से उन्हीं लोगों के साथ सरकार बनाना,

जिनके खिलाफ चुनाव लड़ा गया था और अपार जनादेश मिला था, यह जनादेश का अपमान है.

पटना में कांग्रेस की बैठक में भाग लेने पहुंचे सिंधिया ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा.

.उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार में जनादेश का अपमान किया है. भविष्य में इसका बिहार की जनता खुद जवाब देगी.
उन्होंने बिहार में कांग्रेस में किसी प्रकार के मतभेद से इनकार करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी मजबूत है, कांग्रेस को किसी मंत्र की जरूरत नहीं है.

कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में जोश है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पहले भी एक थी, आज भी एक है ओर आगे भी एक रहेगी .पटना में बैठक में कांग्रेस के विधायक, जिलाध्यक्ष और प्रदेश के अन्य पार्टी पदाधिकारी भाग ले रहे हैं।

अन्य लेख 

क्या लोकसभा 2019 में चुनाव न हो कर राहुल गाँधी सहित युवा नेताओं की क्रान्ति होगी ?

क्या भाजपा के समर्थक इसी तरह के झूठ फैलाते हैं ?

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here