Hindi News, Today's Latest News in Hindi, News - हिन्दी समाचार

नितीश पर उतारी भड़ास सोशल मीडिया पर युवाओं से ले कर नेताओ ने

0 86

नितीश पर उतारी भड़ास सोशल मीडिया पर युवाओं ने


सोशल मीडिया पर  नितीश कुमार के विरोध में देश के युवाओं का गुस्सा और भड़ास खूब दिखाई दी . कुछ ने तो नितीश की विचारधारा पर ही सवाल उठा दिए .

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने ट्विटर पर लिखा :-

नीतीश जी और भाजपा को इसी का ख़तरा था। बिहार की जनता क्रांतिकारी है संघ/भाजपा का पतन वही करेगी और उसका श्री गणेश २७/०८/२०१७ से ही होगा।“

 

हार्दिक पटेल ने अपनी प्रतिक्रिया दी जो कभी नितीश में संभावनाए ढूंढ रहे थे :- लगता है RSS नरेंद्र मोदी जी से हर नजरिये से बेहतर नितीश कुमार को प्रधानमंत्री पद की जिम्मेदारी दे,क्या ऐसा हो सकता है??

एक दुसरे ट्विट में हार्दिक ने लिखा :- वर्तमान परिस्थितियों में नीतीश जी को अपनी पार्टी का विलय बीजेपी मेँ कर दें !!

सोशल मीडिया पट जितना नितीश पर लोग भडके हुए हैं ऐसा शायद ही किसी नेता के लिए देखा गया हो .

नीतीश ने इस बार भाजपा के साथ आ कर अपना दायरा सीमित कर दिया हैं . साथ ही हैसियत भी घटा ली हैं .कहाँ उनको मोदी के मुकाबले माना जा रहा था . अब कहाँ उन्हें एक अठाईस साल का तेज़स्वी यादव ताल ठोंक कर चुनौती दे रहा हैं .

बीजेपी के साथ पहले गठबंधन में नीतीश कुमार को बड़े भाई वाला दर्ज़ा  मिला हुआ था. साल 2010 के चुनाव में जेडीयू को 243 में से 141 सीटें मिली थी जबकि बीजेपी ने 102 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे. वहीं 2015 में बीजेपी ने 157 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे जबकि नीतीश ने 101 सीटों पर अपने उम्मीदवार खड़े किए.

ऐसे में मुमकिन है कि बीजेपी से इस बार गठबंधन करने के बाद नीतीश का रूतबा वैसा ना रहे जैसा पहले था. हो सकता है कि बीजेपी उन्हें बिहार में अपने नेता के तौर पर स्वीकार कर ले लेकिन 2019 के चुनाव के दौरान समझौते की थोड़ी उम्मीद बाकी है. फिलहाल एनडीए के पास बिहार से 31 सांसद हैं जिनमें बीजेपी के 22 और सहयोगी पार्टी के 9 सांसद हैं.

बीजेपी के साथ लड़ाई के दौरान जब बीजेपी ने कांग्रेस मुक्त भारत का नारा दिया तो जवाब में नितीश कुमार  ने संघ मुक्त भारत का नारा दिया. ऐसे में अब जब नीतीश कुमार बीजेपी का और बीजेपी नीतीश कुमार का दामन थाम चुकी है, तो नितीश कुमार  का संघ मुक्त नारा भी हवा हो गया . अपने को संविधान और धर्म निरपेक्षता का रक्षक बताने वाला मोदी के सामने घुटने टेक कर बैठ गया .

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.